Read Best Love Ghazal Written By Salil Saroj बस मुझे ही अपनी गलियों में यूँ ही न बुलाया कर




बस मुझे ही अपनी गलियों में यूँ ही न बुलाया कर 
कभी चाँद बनके तू भी मेरी छत पे आ जाया कर 

मैं जाता ही नहीं किसी भी मंदिर और मस्जिद में 
बस तू ही मुझे मेरे ईश्वर,खुदा सा नज़र आया कर 

मैं क्यों जाऊँ किसी भी काबा या काशी को कभी 
मेरी तासीर पर जन्नत बनकर तू बिखर जाया कर 

मैं हो जाऊँ पाक-साफ़ बस तेरे एक दीदार से ही 
कभी गंगा,कभी जमुना सा मुझमें गुज़र जाया कर 

अगर तेरी सूरत के अलावे भी है कोई जीनत कहीं 
तो भरी दोपहर मुझे भी कभी ये जादू दिखाया कर 

लेखक : सलिल सरोज 

Featured post

घरोंदा Gharaonda - A Motivational Life Story ( Hindi)

घरोंदा   Gharaonda - A Motivational Life Story  बालकनी में खड़ी चाय के प्याले को सिप करते करते जीवन में आये इस अजीब से मोड पर उलझी  ...