ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम की जीवनी – A. P J. Abdul Kalam Ki Biography

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम  को कोण नहीं जनता होगा अब्दुल जी हमारे देश के गौरव थे | अब्दुल कलाम जी का जन्म (15 अक्टूबर 1931 ) में हुआ था |  कलाम जी को हम बहुत सारे नाम  जानते है जैसे की – मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति | अब्दुल कलाम जी का पूरा नाम अबुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम अथवा ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम था | अब्दुल कलाम जी ने जीरो से हीरो तक सफ़र तय किया था | पहले अब्दुल कलाम जी हमारे ही तरह एक साधारण इन्सान थे लेकिन इनके कठिन महनत की बजह से बो एक इंडिया के अनमोल रतन बन गए |

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम की जीवनी - A. P J. Abdul Kalam Ki Biography

अब्दुल कलाम जी ने देश के लिए हर समभाव कम किया | भारत के पुर्व रास्त्रपति और एक बहुत ही ज्ञानी इंजीनियर के रूप जाने जाते थे | अब्दुल कलाम जी ने बहुत सारी मिसाइल का आविष्कार किया जिन मेसे अग्नी version की मिसाइल मोजूद है | अब्दुल कलाम जी ने देख के लिए जो किया बो सायद ही कोई कर पता |

ए॰ पी॰ जे॰ अब्दुल कलाम की जीवनी – A. P J. Abdul Kalam Ki Biography

अब दुल कलाम जी का जन्म 15 अक्टुबर 1931 में हुआ था | धनुषकोड़ी गाव के रामेश्वरम, तमिलनाडू में हुआ था | ये एक मछुआरे परिवार में हुए थे | इनका पूरा नाम अवुल पाकिर जैनुल्लाबदीन अब्दुल कलाम है | इनके पिता का नाम जैल्लाब्दीन था | इनके 3 बड़े भाई तथा 1 बड़ी बहन थी | इन्होने अपनी प्रथम की पढाई घर से ही की इनकी घर की इस्थी अच्छी न होने के करना इन्हें पढाई के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ा |
इनको पढाई पूरी करने के लिए घर घर अखवार बाटने पड़े जिससे इन्होने अपनी पढाई पूरी की | अब्दुल कलाम जी की बात करे तो इन्होने एक मुस्लिम होकर भी अपने देश के लिए ईतना कुछ किया | 

अब्दुल कलाम जी रास्त्रपति कैसे बने ?

अब्दुल कलाम जी की बात करे तो बे भारत के 11 वे रास्त्रपति के रूप में जाने जाते है | इन्हें भारतीये जनता पार्टी के समर्थन के दुबारा उम्मीद बार के रूप में खड़ा किया गिया था जिसे सभी ने समर्थन दिया था और इन्होने 90 प्रतिशत बोट पाने के अनुसार भारत का 11 वा  रास्त्रपति नियुक्त किया गया | इन्हें 22 जुलाई 2002 को संसद भवन में रास्त्रपति पद की सपथ दिलाई गयी |

अब्दुल कलाम जी ने रास्त्रपति पद छोड़ने के बाद क्या किया ?

भारत के अनमोल रतन कहे जाने बल ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी ने जब रास्त्रपति पद छोड़ा तो उन्होंने अपनी पूरी जिन्दगी देश के लिए समिर्पित करनी की सोची और बे फिर टेक्नोलॉजी के छेत्र में सामिल हुए और उन्होंने बहा एक इंजीनियर और विज्ञानिक की भूमिका निभाई |
उन्होंने भारत के लिए बहुत साडी मिसाइल का आविष्कार किया जिन्मेसे अग्नी 3 एंड बहुत साडी मिसाइल का आविष्कार किया | इन्होने भारत के लिए बहुत सारे कार्य किया जो हर देश बसी को करना चाहिए |

 निधन 

भारत के अनमोल रतन अवुल पाकिर जैनुल्लाबदीन अब्दुल कलाम की जिन्दगी के आखरी सफ़र 27 जुलाई 2015 को कतम हुआ | इनका निधन जोरदार अटैक की बजह से हुआ था जब इन्हें 6:30 बजे अस्पताल ले जाया गया तो बहा इन्होने अपनी जिन्दगी की आखरी सास ली | 
आज भी कहा जाता है की अब्दुल कलाम जी ने जो अपने देश के लिए किया बो सायद ही करेगा | अब्दुल कलाम जी का इतिहाश बहुत बड़ा है | लेकिन अगर हम इनके कुछ ही प्रष्ट पड़े तो हम्हे बो प्राणना मिलती है जो हर किसी के लिए जरूरी है |

निष्कर्ष 

कलाम जी के इस बायोग्राफी से हम्हे बहुत कुछ सिखने को मिलता है जैसे की – आगे बड़ने के लिए हमारी परिस्तिथि निर्भर नहीं करती है, बल्कि कब्लियत निर्भर करती है ” 

सच कहा किसी ने की “कोई बड़ा कम करने के 100 शाल तक जीवित रहना जरूरी नहीं है, एक दिन में ही कुछ एशा कर जाओ की लोग 100 शाल तक तुम्हे  याद रखे “

क्या रखा है आपस के बेर में एक दिन सभी को जाना है, जिन्दा हमारे करम हे यहाँ इस मिटटी का क्या है इस मिटटी में ही मिल जाना है |

काश सभी समझे इस बात को और कुछ एशा करे जिससे हमारे देश का नाम पूरी विश्व में रोसन हो | जिससे हमारे परेंट्स भी हम पर गर्व करे |

तो दोस्तों में आशा करता हु की आपको आज का पोस्ट पससंड आया होगा तो दोस्तों शेयर और subscribe जरूर करे | हमारी यही कोसिस रहेगी की हम आपको हमेशा ही कुछ नया फ्रेश आर्टिकल शेयर करू |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *